Monday, August 2, 2010

डॉन ब्रैडमैन का श्रीलंकाई कनेक्शन

कोलंबो का पी सारा ओवल ग्राउंड...भारतीय उपमहाद्धीप का वो मैदान...जिसका अपना अलग ही इतिहास है...ऐसा इतिहास जो इस मैदान को उपमहाद्धीप के दूसरे ग्राउंड्स से अलग करता है...इस ग्राउंड का इतिहास आज भी ऑस्ट्रेलिया के महान बल्लेबाज़ सर डॉन ब्रैडमैन की याद दिलाता है...ओवल के इतिहास के पन्नों में आज भी डॉन ब्रैड मैन की याद ताज़ा हैं... ओवल का डॉक्टर राजन चनमुगम स्टैंड 1948 में खेले गए उस मैच के खूबसूरत पलों को समेटे हुए हैं...जिसमें सर डॉन ब्रैड मैन ने शिरकत की थी...यहां की दरो दीवारें आज भी ऑल सीलोन और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले गए मैच की यादों को ताज़ा कराती है...ओवल ग्राउंड इसलिए भी खास है...क्योंकि जिस वक्त यहां सर डॉन ब्रैड मैन ने मैच खेला था...उस वक्त श्रीलंका की क्रिकेट टीम भी वजूद में नहीं थी...ऑस्ट्रेलिया के महान बल्लेबाज़ सर डॉन ब्रैडमैन तो अब इस दुनिया में नहीं...लेकिन अब एक बार फिर इस मैदान पर श्रीलंका और टीम इंडिया भिड़ने जा रही है...वैसे तो दोनों ही टीमों को लिए ये मैच बेहद अहम है...लेकिन मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के लिए ये मैदान खास अहमियत रखता है...क्योंकि सचिन इस टेस्ट मैच को खेलकर वर्ल्ड क्रिकेट में सबसे ज्यादा टेस्ट मैच खेलने का रिकॉर्ड बनाने वाले हैं...दूसरे सर डॉन ब्रैड मैन खुद इस बात को कह चुके हैं कि सचिन में उन्हें अपना अक्स दिखाई देता है...जाहिर है सचिन का बल्ला अगर इस मैदान बोलता है ...फिर ये मैदान डॉन ब्रैडमैन के बाद सचिन तेंदुलकर के लिए भी इतिहास के कई पन्ने समेट लेगा...

No comments:

Post a Comment