Sunday, January 24, 2010

पुच्छल्लों ने किया परेशान


मीरपुर टेस्ट में शानदार शुरुआत करने वाली टीम इंडिया को इस बार भी पुछ्छलों की मार सहनी पड़ी... टीम इंडिया ने बेशक टॉस गंवाया...लेकिन बॉलर्स ने शानदार शुरुआत करते हुए...पारी के दूसरे ओवर में ही बांग्लादेशी किले में सेंध लगा दी...सिर्फ 50 रनों के अंदर ही...आधी बांग्लादेशी टीम पवेलियन लौट गई...लगा कि सोए शुरु शेर जाग गए है...और अब तो मेजबान की खैर नहीं...उम्मीद थी...कि 100 रनों के भीतर ही बांग्लादेश की पारी का अंत हो जाएगा...लेकिन ऐसा सिर्फ लगा...हुआ नहीं...क्योंकि इसके बाद...टीम इंडिया को जकड़ लिया...नई बीमारी ने....
बीमारी पुछ्छ्लों के आगे घुटने टेक देने की...और इस नई बीमारी ने...अगले पांच विकेट हासिल करने में खर्च करवा दिए...पूरे 183 रन...और एक के बाद एक पुछ्छले बल्लेबाज़ों की बनती साझेदारियों ने...बांग्लादेश की पहली पारी के स्कोर को पहुंचा दिया...233 रनों तक...जिसके नायक बने...मोहम्मदुल्लाह...जिन्होनें नाबाद 96 की पारी खेली...लेकिन गौर करने वाली बात ये है...कि ऐसा ही हश्र टीम इंडिया का चटगांव टेस्ट में भी हुआ था...जहां बांग्लादेश की पारी सिर्फ 98 रन खर्च कर पहले 6 विकेट हासिल कर लिए थे...लेकिन अगले चार विकेट के लिए टीम इंडिया ने लुटा दिए...144 रन...।और तो और दूसरी पारी में भी टीम इंडिया का हाल ऐसा ही हुआ...जहां 145 रनों पर 6 विकेट हासिल करने के बाद...अगले चार विकेट मिले पूरे 156 रनों के बाद...वहीं टीम इंडिया के लिए गले की हड्डी बने...रहीम...और यहां...मोहम्मदुल्लाह...यानि पहले तो टीम इंडिया ने खराब फील्डिंग से पार पाया...फिर बेदम बॉलिंग को सुधारने चैंलेज सामने आया...लेकिन अब पुछ्चलों से ना निपट पाने की ये बीमारी ..टीम इंडिया को गहरे जख़्म दे रही है...

No comments:

Post a Comment