Wednesday, January 13, 2010

हॉकी की जीत !


हॉकी इंडिया और खिलाड़ियों के बीच बकाया राशि को लेकर पनपा विवाद फिलहाल खत्म हो गया है...खिलाड़ी प्रैक्टिस कैंप में लौटने के लिए राज़ी हो गए हैं...हालांकि हॉकी का ये विवाद ओलंपिक संघ की दखलअंदाजी के बाद खत्म हुआ...ओलंपिक संघ के अध्यक्ष सुरेश कलमाड़ी ने खिलाड़ियों से बातचीत करके ये भरोसा दिलाया कि उनकी सारी दिक्कतें दूर कर दी जाएगी। साथ ही कलमाड़ी ने खिलाड़ियों की समस्यों को निपटाने के लिए वित्तीय कमेटी बनाने की भी बात कही। इसके अलावा कलमाड़ी ने खिलाड़ियों की उस मांग पर भी हामी भरी..जिसमें खिलाड़ी हॉकी में क्रिकेट की तरह ग्रेडिंग सिस्टम की मांग कर रहे थे। हॉकी फेडरेशन और खिलाड़ियों के बीच हुए समझौते में सभी मांगें मान लिए जाने के बाद खिलाड़ियों ने प्रैक्टिस कैंप में लौटने का फैसला किया। सभी खिलाड़ी गुरुवार से प्रैक्टिस पर लौटेंगे।

भारतीय हॉकी भीषण संकट में तब घिर गया जब विश्व कप के 22 संभावित खिलाड़ियों ने वेतन और प्रोत्साहन राशि का भुगतान नहीं होने के विरोध में शुक्रवार को पुणे के बालेवाड़ी खेल परिसर में ट्रेनिंग रोक दी।हालांकि छह खिलाड़ियों और हॉकी इंडिया के अधिकारियों के बीच शनिवार को मैराथन बैठक के बाद हड़ताल खत्म हो गई थी। लेकिन यह समझौता एक दिन भी नहीं चला जब खिलाड़ियों ने सोमवार से दोबारा हड़ताल जारी रखने का फैसला किया क्योंकि वे हॉकी इंडिया के आश्वासन से संतुष्ट नहीं थे।यह संकट कल उस समय और गहरा गया जब हड़ताली खिलाड़ियों और हॉकी इंडिया के बीच बातचीत विफल हो गई जिससे नाराज प्रशासकों ने खिलाड़ियों को 48 घंटे का नया अल्टीमेटम देते हुए कहा कि या तो वे शिविर में लौटे या निलंबन का सामना करने को तैयार रहें।

1 comment: