Tuesday, October 6, 2009

पीटी उषा का अपमान


पी टी उषा भारतीय खेल जगत का वो नाम है जिसे देश में होर कोई जानता है..लेकिन भोपाल में एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में पहुंची पीटी उषा का अपमान किया गया ...और इसके बाद सफाई देने की जगह ओलंपिक एसोसिएशन के अध्यक्ष सुरेश कलमाड़ी मीडिया को ही धक्का मार निकल गए..यही है...भारतीय खिलाड़ियों के दर्द की सच्चाई...पीटी उषा...वो नाम जिसने अनगिनत बार देश का नाम रोशन किया...उसे सम्मान दिलाया...भारत की सवासौ करोड़ जनता ने जिसे सर आंखों पर बैठाया...और कहा यही है...भारत की उड़नपरी...लेकिन आज उसे अपनों ने वो जख्म दिए है...जो कभी उड़नपरी ने सपने भी ना सोचे थे...ये वाक्या उस वक्त का है...जब एथलेटिक्स चैंपियंनशिप में भाग लेनें पीटी उषा भोपाल पहुची...लेकिन एक वक्त भारत की शान कहीं जाने वाली इस चैंपियंन खिलाड़ी को वहां कोई लेने तक नहीं आया...और तो और जब जैसे-तैसे पीटी उषा टैक्सी से साई सेन्टर पहुची तो वहां अधिकारियों ने उन्हें कोई तव्व्जों भी नहीं दी...वहीं देश की इतनी बड़ी खिलाड़ी के इस अपमान के बारे में जब ओलंपिक एसोसिएशन के अध्यक्ष सुरेश कलमाड़ी से पूछी गया तो ...कलमाड़ी साहब बचते हुए नज़र आए..खैर...सामने आए एथलेटिक्स फेडरेशन के सचिव ललित भनोट और उन्होनें देनी शुरु कर दी सफाई...अब आप खुद ही अंदाज़ा लगा सकते हैं...कि जो खिलाड़ी दिन रात एक करके देश को सम्मान दिलाते है...उन खिलाड़ियों की भारतीय खेलों के रहनुमाओं की नज़रों में क्या अहमियत है...और आखिर कब तक भारत के लिए सुनहरे पल लिखने वाले खिलाड़ियों के साथ इस तरह का बर्ताव होता रहेगा

No comments:

Post a Comment