Wednesday, November 25, 2009

सचिन का 'सामना'


भारतीय क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने ये कभी सपने में भी नहीं सोचा होगा...कि उनका बयान उनके लिए सबसे बड़ी मुसिबत बन जाएगी...और जिस देश के लिए वो खेलते हैं...उस पर गर्व करने की बात पर समाज के ठेकेदार ऐसा गदर मचा देंगेसचिन ने तो अपने दिल की बात कह दी...लेकिन हमेशा विवादों से कोसों दूर रहने वाले मास्टर-ब्लास्टर को अब सता रहा है...एक अंजाना डर...डर अपने ही देश के सियासतदानों की सियासत कहीं उनके लिए और बड़ी मुसिबत ना खड़ी कर दे...सचिन ने अंतरराष्ट्रीय करियर में 20 साल गुज़ार दिए...लेकिन मास्टर-ब्लास्टर कभी भी किसी मुसिबत के सामने इतने विचलित नहीं हुए और अब जबकि सचिन का ये बयान उनके लिए बवाल बनता जा रहा है...तो सचिन ने भी इससे पीछा छुड़ाने का मन बना लिया है...और ये तय कर लिया है...कि जैसे भी हो वो इस विवाद पर विराम लगा कर ही दम लेंगे... सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सचिन ने इस विवाद को यहीं शांत करने के लिए बीसीसीआई अधिकारियों से बात कर ली है...और ये साफ कहा है...कि इस मुद्दे पर बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष और एनसीपी नेता शरद पवार आगे आए...और सोनिया गांधी से मिलकर जल्द से जल्द उन्हें किसी भी तरह से इस जी के जंजाल से राहत दिलाए...हालाकि सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक अभी तक ये साफ नहीं हो पाया है...कि एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार सोनिया गांधी से इस मुद्दे पर बात करने के लिए कब मिलेंगे... खैर...देश के लिए मैदान में पसीना बहाने वाले सचिन ने अपने बयान से पैदा हुए बवाल के तूफान को थामने के लिए कदम बढ़ा दिए हैं...और साथ ही ये नसीहत भी ले ली है...कि जिस देश को गौरव दिलाने के लिए वो मैदान में पसीना बहाते हैं...उस देश पर खुलेआम गर्व करने की बात करना किसी की नज़र में गुनाह भी हो सकता है।

No comments:

Post a Comment